Sunday , August 19 2018

कैकुबाद व शम्सुद्दीन (1287-90 ई.) Kaikubad and Shamsuddin in Hindi

कैकुबाद व शम्सुद्दीन (1287-90 ई.)kaikubad and shamsuddin in Hindi

कैकुबाद व शम्सुद्दीन (1287-90 ई.)kaikubad and shamsuddin in Hindi –बलबन ने अपने पौत्र खुसरो को अपना उत्तराधिकारी बनाया था, किन्तु दिल्ली के कोतवाल फखरुद्दीन ने कूटनीति से खुसरो को मुल्तान की सूबेदारी देकर बुगरा खाँ के 17 वर्षीय पुत्र केकुबाद (kaikubad) को सुल्तान बनाया.      उसने मुइजुद्दीन कैकुबाद की उपाधि …

Read More »

गयासुद्दीन बलबन (1266-86 ई.) Ghiyasuddin Balban in Hindi

गयासुद्दीन बलबन (1266-86 ई.) Ghiyasuddin Balban in Hindi

गयासुद्दीन बलबन (1266-86 ई.) Ghiyasuddin Balban in Hindi–नासिरुद्दीन के साथ ही इल्तुतमिश के ‘शम्शी वंश’ का अन्त हुआ व ‘बलवनी वंश‘ का सल्तनत पर अधिकार हो गया. बलबन सल्तनत काल का सबसे योग्य, सक्षम और प्रभावशाली शासक हुआ.     गयासुद्दीन बलबन का वास्तविक नाम बहाउद्दीन बलबन था. उसे ख्वाजा …

Read More »

नासिरुद्दीन महमूद (1246-66 ई.) Nasiruddin Mahmud in Hindi

नासिरुद्दीन महमूद (1246-66 ई.) Nasiruddin Mahmud in Hindi

नासिरुद्दीन महमूद (1246-66 ई.) Nasiruddin Mahmud in Hindi -1236 से 1246 ई. तक के काल में नासिरुद्दीन महमूद राज्य में अमीरों या तुर्क सरदारों की शक्ति का प्रभाव देख चुका था. अतः उसने राज्य की समस्त शक्ति बलबन को सौंप दी.     अगस्त 1249 ई. में बलबन ने अपनी …

Read More »

अलाउद्दीन मसूद शाह (1242-46 ई.)Alauddin masud Shah in Hindi

अलाउद्दीन मसूद शाह (1242-46 ई.)Alauddin masud Shah in Hindi

अलाउद्दीन मसूद शाह (1242-46 ई.)Alauddin masud Shah in Hindi -अलाउद्दीन मसूद शाह बहराम शाह के भाई रुक्नुद्दीन फिरोजशाह का पुत्र व इल्तुतमिश का पौत्र था.     उसके समय में तुर्क सरदार सर्वोच्च बने रहे तथा मसूद शाह के पास केवल सुल्तान की उपाधि मात्र ही रह गई. ‘नाईब-ए-मुमलिकत‘ के …

Read More »

मुईजुद्दीन बहराम शाह (1240-42 ई.) Muiz ud din Bahram shah

मुईजुद्दीन बहराम शाह (1240-42 ई.) Muiz ud din Bahram shah

मुईजुद्दीन बहराम शाह (1240-42 ई.) Muiz ud din Bahram shah–रजिया सुल्ताना के पश्चात् तुर्क सरदारों ने उसके भाई व इल्तुतमिश के तीसरे पुत्र मुईज्जुद्दीन बहराम शाह(Muiz ud din Bahram shah) को सुल्तान बनाया.     मुईजुद्दीन बहराम शाह (1240-42 ई.) Muiz ud din Bahram shah–रजिया सुल्ताना के पश्चात् तुर्क सरदारों …

Read More »

रजिया सुल्ताना (1236-40 ई.) Razia Sultana in hindi

रजिया सुल्ताना (1236-40 ई.) Razia Sultana in hindi

रजिया सुल्ताना (1236-40 ई.) Razia Sultana in hindi– रजिया सुल्ताना दिल्ली के अमीरों तथा जनता के सहयोग से सिंहासन पर बैठी थी. अतः अन्य तुर्क सरदार जैसे निजामुल मुल्क जुनैदी, मलिक अलाउद्दीन जानी, मलिक सैफुद्दीन कूची, मलिक ईनुद्दीन कबीर खाँ अयाज एवं मलिक इजुद्दीन सलारी आदि रजिया के प्रबल विरोधी बन …

Read More »

रुक्नुद्दीन फिरोजशाह (1236 ई.)ruknuddin Firoz Shah in hindi

रुक्नुद्दीन फिरोजशाह (1236 ई.)ruknuddin Firoz Shah in hindi

रुक्नुद्दीन फिरोजशाह (1236 ई.)ruknuddin Firoz Shah in hindi –इल्तुतमिश ने अपनी पुत्री रजिया को अपना उत्तराधिकारी बनाया था, परन्तु उसकी मृत्यु के पश्चात् उसके सबसे बड़े पुत्र रुक्नुद्दीन फिरोजशाह को गद्दी पर बिठाया गया. उसकी माता शाह तुर्कान(shah turkan)मूलतः एक तुर्की दासी थी. रुक्नुद्दीन फिरोजशाह एक अयोग्य व विलास-प्रिय शासक …

Read More »

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | Iltutmish in Hindi

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत |Iltutmish in Hindi

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश- दिल्ली सल्तनत-Iltutmish in Hindi-इल्तुतमिश के साथ इल्बारी (शक्शी) वंश का शासन आरम्भ हुआ. यह भी एक दास था तथा अपनी योग्यता के बल पर वह बदायूँ का प्रान्ताध्यक्ष बना और मुहम्मद गोरी के आदेश पर उसे दासता से मुक्ति तथा ‘अमीर-उल-उमरा’ की उपाधि मिली. इल्तुतमिश आरामशाह …

Read More »

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत- कुतुबुद्दीन ऐबक अपनी अकस्मात मृत्यु के कारण किसी उत्तराधिकारी का चुनाव नहीं कर पाया था. अतः लाहौर के तुर्क अधिकारियों ने आराम शाह को गद्दी पर बिठा दिया.   इस विषय में अभी तक विवाद है कि आराम …

Read More »

कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश | Qutubuddin Aibak in Hindi (1206-1290 ई.)दिल्ली सल्तनत

कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश या दास वंशकी स्थापना (1206-1990 ई.)दिल्ली सल्तनत

दिल्ली सल्तनत कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश या दास वंशकी स्थापना-1206 ई. से 1290 ई. तक ‘दिल्ली सल्तनत‘ पर शासन करने वाले तुर्क सरदारों को ‘गुलाम वंश‘ (दास वंश) का शासक माना जाता है. इस काल में कुत्वी (कुतुबुद्दीन ऐबक), शक्शी (इलतुतमिश) तथा बलबनी (बलबन) नामक राज्यवंशों ने शासन किया. इल्तुतमिश …

Read More »