गुलाम तथा खिलजी कालीन वास्तुकला (Ghulam and Khilji period Architecture)

गुलाम तथा खिलजी कालीन वास्तुकला (Ghulam and Khilji period Architecture)

गुलाम तथा खिलजी कालीन वास्तुकला (Ghulam and Khilji period Architecture)–यह स्थापत्य कला के विकास की प्रथम अवस्था मानी जाती है. सल्तनत काल का आरम्भिक समय होने के कारण इस काल की इमारतों पर हिन्दू-शैली का पर्याप्त प्रभाव देखने को मिलता है. खिलजी काल में निर्मित भवनों में निर्माण तथा अलंकण की विधि में परिवर्तन हुआ. …

गुलाम तथा खिलजी कालीन वास्तुकला (Ghulam and Khilji period Architecture) Read More »

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत |Iltutmish in Hindi

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | Iltutmish in Hindi

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश- दिल्ली सल्तनत-Iltutmish in Hindi-इल्तुतमिश के साथ इल्बारी (शक्शी) वंश का शासन आरम्भ हुआ. यह भी एक दास था तथा अपनी योग्यता के बल पर वह बदायूँ का प्रान्ताध्यक्ष बना और मुहम्मद गोरी के आदेश पर उसे दासता से मुक्ति तथा ‘अमीर-उल-उमरा’ की उपाधि मिली. इल्तुतमिश आरामशाह को पराजित करके शम्सुद्दीन के …

इल्तुतमिश (1210-36 ई.)गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | Iltutmish in Hindi Read More »

Scroll to Top