क्रिप्स मिशन, 1942 (The Cripps Mission, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (Indian National Movement)

क्रिप्स मिशन, 1942 (The Cripps Mission, 1942)
  • अब ब्रिटिश सरकार को युद्ध प्रयासों में भारतीयों के सक्रिय सहयोग की बुरी तरह आवश्यकता थी.
  • ऐसी स्थिति में 11 मार्च, 1942 को चर्चिल ने घोषणा की कि उनके युद्ध-मंत्रिमण्डल ने भारत संबंधी नीति निर्धारित कर ली है.
  • अत: उन्होंने एक कैबिनेट मंत्री सर स्टैफोर्ड क्रिप्स के नेतृत्व में मार्च, 1942 में एक मिशन भारत भेजा.
  • क्रिप्स मिशन ने सरकारी अधिकारियों, राजनीतिक दलों तथा रियासतों के प्रतिनिधियों से बातचीत की.
  • क्रिप्स मिशन की प्रमुख बातें थी –
  1. युद्ध समाप्त होते ही भारत का संविधान बनाने के लिए एक निर्वाचित संस्था स्थापित की जायेगी.
  2. भारत एक डोमिनियन स्टेटस बना दिया जायेगा.
  3.  यदि भारत का कोई अंश (जैसे कोई रियासत या अल्पमत) यह चाहेगा कि वह अलग रहे तो उसे सम्पूर्ण प्रभुत्व का राज्य बना दिया जायेगा.
  • कांग्रेस ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया.
  • ब्रिटिश सरकार ने कांग्रेस की यह बात मानने से इन्कार कर दिया कि वास्तविक शक्ति तत्काल भारतीयों को सौंपी जाए.
  • भारतीय नेता इस बात से भी संतुष्ट नहीं हुए कि उनके भविष्य के लिए केवल वादे किए जाएं और फिलहाल वायसराय के हाथों में निरंकुश शक्तियां बनी रहें.

Related Links

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top