Monday , October 22 2018
Breaking News
Home / भूगोल / पृथ्वी का विकास,धरातल के प्रमुख लक्षण (Evolution of Earth in Hindi)

पृथ्वी का विकास,धरातल के प्रमुख लक्षण (Evolution of Earth in Hindi)

पृथ्वी का विकास (Evolution of Earth)

पृथ्वी का विकास (Evolution of Earth)

 

  • अनेक अवस्थाओं से गुजरकर पृथ्वी ने वर्तमान रूप धारण किया है.
  • भंवर गति से घूमते हुए धूल और गैस के गोले से पृथ्वी द्रव अवस्था में पहुंच गई.
  • हल्के पदार्थ नीचे गहराई से निकलकर इसकी आग्नेय सतह पर उतरने लगे. फिर वे ठंडे होकर कठोर बन गए.
  • इस प्रकार धीरे-धीरे पृथ्वी की ऊपरी परत ठोस शैलों की बन गई.
  • इन्हीं से पृथ्वी की पर्पटी का अधिकतर भाग बना है.
  • पृथ्वी का आंतरिक भाग ठंडा होकर सिकुड़ गया तथा इसकी बाह्य पर्पटी में सिलवटें पड़ गयी, जिनसे पर्वत श्रेणियाँ और द्रोणियाँ बन गई.
  • उसी समय और अधिक हल्के पदार्थ पर्पटी के ऊपर उतराने लगे, जिनसे गैसों का वायुमण्डल बन गया.
  • वायुमंडल में गर्म गैसीय पदार्थों के ठंडे होने से विशाल बादल बन गए.
  • इन बादलों से हजारों सालों तक भारी वर्षा होती रही.
  • परिणामस्वरूप भूपर्पटी की बड़ी-बड़ी द्रोणियाँ जल से भर गई.
  • इस प्रकार महासागरों का निर्माण हुआ .

 

पृथ्वी के धरातल के प्रमुख लक्षण (Main Features of Earth Surface)

  • महाद्वीप और महासागर पृथ्वी के धरातल के प्रमुख लक्षण हैं.
  • पृथ्वी के धरातल का एक-तिहाई से भी कम भाग ही स्थल है.
  • शेष दो-तिहाई भाग में जल ही जल है.
  • पृथ्वी के धरातल पर ऊंचाई में अधिकतम अंतर लगभग 20 किलोमीटर का है.
  • एक ओर 8848 मीटर ऊँचा एवरेस्ट पर्वत शिखर है.
  • तो दूसरी ओर प्रशांत महासागर की मैरियाना ट्रैच में 11022 मीटर गहरा चैलेंजर गर्त है.
  • पृथ्वी के आकार को देखते हुए इसके धरातल के उच्चावचन में यह अंतर कम है.
  • पृथ्वी पर मल्लद्वीप और महासागर अनियमित रूप से फैले हैं.
  • दक्षिण गोलार्द्ध की अपेक्षा उत्तरी गोलार्द्ध में स्थल भाग अधिक है.
  • लेकिन महाद्वीप और महासागर हमें जैसे आज दिखाई पड़ते हैं, वे सदा से ही ऐसे नहीं थे.
  • लाखों वर्षों तक महाद्वीपों के काफी बड़े भाग, ग्रीनलैंड तथा अंटार्कटिका की भांति बर्फ की मोटी-मोटी चादरों से ढके थे.
  • पृथ्वी पर इस अवधि को हिमकाल के नाम से जाना जाता है.
  • बर्फ की ये मोटी-मोटी चादरें कुछ ही हजार साल पहले पिघली हैं.
  • इनके पिघलने से ही समुद्र तल अपनी वर्तमान स्थिति में पहुँचा है.
  • जब समुद्र तल नीचा था तब उत्तर अमेरिका और एशिया महाद्वीप आपस में स्थल सेतुओं से जुड़े थे.
  • आज उसी भाग में बैरिंग जलसंधि है.

 

पृथ्वी का विकास (Evolution of Earth)

User Rating: Be the first one !

About srweb

Check Also

पृथ्वी की उत्पत्ति और विकास (Origin and Evolution of Earth)

पृथ्वी की आयु | भूगोल (Age of Earth in Hindi | Geography )

पृथ्वी की आयु (Age of Earth)–   पृथ्वी के निर्माणकाल का विषय भी इसकी उत्पत्ति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Insert math as
Block
Inline
Additional settings
Formula color
Text color
#333333
Type math using LaTeX
Preview
\({}\)
Nothing to preview
Insert