Saturday , April 20 2019
Breaking News
Home / भारतीय इतिहास / विजयनगर साम्राज्य सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

विजयनगर साम्राज्य सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

विजयनगर साम्राज्य सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

सामाजिक दशा

  • विजयनगर समाज वैदिक और शास्त्रीय परम्पराओं के आधार पर कई वर्गों और जातियों में बंटा था.
  • फिर भी प्रमुख वर्ग चार थे–ब्राह्मण, क्षत्रिय,वैश्य वर्ण (चेट्टी) तथा निम्न वर्ग .

विजयनगर साम्राज्य-सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

ब्राह्मण

  • ब्राह्मणों को समाज में सर्वोच्च स्थान प्राप्त था.
  • ब्राह्मणों को कठोर दण्ड से मुक्त रखा गया था.
  • ब्राह्मण सम्मानीय जीवन व्यतीय करते थे और माँस आदि का प्रयोग नहीं करते थे.

क्षत्रिय

  • क्षत्रिय वर्ग के विषय में स्पष्ट वर्णन नहीं मिलता है.
  • अनुमानतः कहा जा सकता है कि क्षत्रिय वर्ग के लोग राजाओं, प्रान्तीय और केन्द्रीय उच्चाधिकारियों, सेनापतियों आदि के रूप में कार्य करते थे.

वैश्य वर्ण (चेट्टी)

  • वैश्य वर्ण या मध्यम वर्ग के “चेट्टी” नामक विशाल वर्ग का उल्लेख मिलता है.
  • अधिकांश व्यापार वैश्य वर्ग के हाथ में था.
  • यह समूह (वैश्य वर्ग) लिपिक एवं लेखा कार्य में पूर्णतः दक्ष था.

निम्न वर्ग

  • किसान, जुलाहे, नाई, शस्त्रवाहक, लुहार, स्वर्णकार, मूर्तिकार, बढ़ई आदि निम्न वर्ग में आते थे.
  • डोंगर (बाजीगर), मछुआरों और जोगियों को समाज में हेय दृष्टि से देखा जाता था.

ब्राह्मण, क्षत्रिय तथा चेट्टियों का जीवन उच्च-स्तरीय था, जबकि अन्य लोगों का जीवन स्तर बहुत निम्न था.

स्त्रियों की स्थिति

  • स्त्रियों की स्थिति प्रायः निम्न थी और उन्हें भोग की वस्तु समझा जाता था.
  • कुलीन स्त्रियों को समाज में सम्मानीय स्थान प्राप्त था.
  • वे शिक्षा, नृत्यकला, शस्त्रविद्या आदि में पारंगत होती थीं.
  • अंगरक्षक के रूप में भी स्त्रियों की नियुक्ति की जाती थी.
  • राज-परिवार के लोग स्त्रियों को नौकरानी एवं रखैलों के रूप में रखते थे.
  • वैश्यावृत्ति में स्त्रियों का बहुत बड़ा वर्ग संलग्न था. विधवा स्त्रियों का जीवन बहुत अपमानजनक समझा जाता था.
  • विधवा-विवाह प्रचलित था .
  • पर्दा-प्रथा का प्रचलन नहीं था.
  • सम्भवतः सती प्रथा भी प्रचलित थी.

गणिका

  • गणिकाओं का प्रत्येक वर्ण के साथ उल्लेख मिलता है.
  • ये दो प्रकार की होती थीं-
मन्दिरों से सम्बन्धित तथा
स्वतंत्र जीवन-यापन करने वाली

 

विजयनगर साम्राज्य के समाज में अनेक कुप्रथाएं भी प्रचलित थीं, जैसे-

  1. बाल-विवाह,
  2. बहु-विवाह,
  3. सती–प्रथा,
  4. दहेज-प्रथा,
  5. दास-प्रथा आदि .
  • क्रियी दासों को ‘वेसवग’ कहा जाता था.
  • स्त्रियाँ भी दास हुआ करती थीं.
  • नाटक, यक्षगान, शतरंज, पासा खेलना, जुआ खेलना, तलवार बाजी, बाजीगरी, तमाशा दिखाना, मछली पकड़ना, चित्रकारी आदि लोगों के मनोरंजन के साधन थे.
  • लोग माँसाहारी भी थे और शाकाहारी भी .
  • गाय का माँस खाना निषेध था.
  • ब्राह्मण माँस नहीं खाते थे.
  • सूती रेशमी वस्त्रों का प्रचलन था.
  • पुरुष धोती, कुर्ता, टोपी तथा दुपट्टे और स्त्रियाँ धोती एवं चोली पहनती थीं.
  • उच्च वर्ग की स्त्रियाँ पेटीकोट पहनती थीं.
  • केवल धनी व्यक्ति ही जूता पहनते थे.
  • पुरुष एक पैर में कड़ा (गंडपेन्द्र) पहनते थे.
  • जियनगर के राजाओं ने न तो शिक्षा में रुचि ली और न ही विद्यालयों या महाविद्यालयों की स्थापना की.
  • उन्होंने ब्राह्मणों को भूमि दान देकर तथा मन्दिर और मठों को भूमि एवं सम्पत्ति का दान देकर परोक्ष रूप से शिक्षा को बढ़ावा दिया.
  • इस राज्य में चारों वेदों के साथ-साथ पुराणों, इतिहास, नाटक, दर्शन, भाषा, गणित आदि की शिक्षा दी जाती थी.

आर्थिक दशा

  • विभिन्न विदेशी यात्रियों यथा-इटली निवासी निकोली कोण्टी, पुर्तगाल निवासी डोमिंगो पेइज तथा ईरान निवासी अब्दुर्रज्जाक ने विजयनगर साम्राज्य की आर्थिक समृद्धि की प्रशंसा की है.
  • यहाँ कृषि तथा व्यापार काफी उन्नत स्थिति में थे.
  • कृषि योग्य भूमि व सिंचाई के साधनों की उत्तम व्यवस्था की गई थी.
  • विजयनगर साम्राज्य का व्यापार मुख्यतः मलाया, बर्मा, चीन, अरब, ईरान, अफ्रीका, अबीसीनिया एवं पुर्तगाल से होता था.
  • व्यापार जल तथा स्थल दोनों मार्गों से होता था.
  • अरब, मोती, तांबा, कोयला, पारा, रेशम आदि विदेशों से आयात किया जाता था तथा कपड़ा, चावल, शीरा, चीनी, मसाले, इत्र आदि का यहाँ से निर्यात होता था.
  • उस समय अनेक प्रकार की भूमि अस्तित्व में थी जैसे 

भूमि के प्रकार

कुटगि भूमि

  • भू-स्वामियों द्वारा किसान को पट्टे पर दी गई भूमि .

मठापुर भूमि

  • धार्मिक सेवाओं के बदले ब्राह्मणों, मन्दिरों एवं मठों को दान स्वरूप दी गई भूमि .

उंबलि भूमि

  • गाँव को दी गई लगान मुक्त भूमि.

अमरम भूमि

  • सैनिक तथा असैनिक अधिकारियों को उल्लेखनीय सेवाओं के बदले दी गई भूमि.

रतकोडगे भूमि

  • युद्ध में वीरता का प्रदर्शन करने वाले को दी गई भूमि.

कला एवं साहित्य

  • विजयनगर के राजाओं ने विभिन्न कलाओं-स्थापत्य कला, नाट्य कला, संगीत कला, चित्रकला आदि को बहुत प्रोत्साहन दिया.
  • कृष्णदेव राय का ‘हजारा मंदिर’ तथा ‘विठ्ठलस्वामी’ का मन्दिर इस काल की स्थापत्य कला के उत्कृष्ठ नमूने हैं.
  • इस काल में नृत्यकला एवं नाट्य कला पर अनेक ग्रन्थों की रचना हुई.
  • राजाओं ने अनेक विद्वानों को संरक्षण दिया.
  • इस काल में संस्कृत, तेलुगु, तमिल तथा कन्नड़ भाषाओं में साहित्य लिखा गया.
  • सायण, माधव, नचन सोम तथा कृष्णदेव राय आदि यहाँ के प्रमुख विद्वान थे.
  • इन्होंने नृत्य कला, व्याकरण, दर्शन, धर्म आदि पर ग्रन्थ लिखे.
  • संक्षेप में विजयनगर राज्य में हिन्दू-धर्म, संस्कृति, प्राचीन दक्षिण भारत की भाषाओं के साहित्य, वास्तुकला, मूर्तिकला तथा संगीत कला को बहुत प्रोत्साहन मिला.

विजयनगर साम्राज्य सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

Review

User Rating: Be the first one !

Check Also

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 (Quit India Movement, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (Indian National Movement)

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 (Quit India Movement, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 (Quit India Movement, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (Indian National Movement) युद्ध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Insert math as
Block
Inline
Additional settings
Formula color
Text color
#333333
Type math using LaTeX
Preview
\({}\)
Nothing to preview
Insert