Saturday , April 20 2019
Breaking News
Home / भारतीय इतिहास / सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था (Sultanate Period Social & Religious status)

सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था (Sultanate Period Social & Religious status)

सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था (Sultanate Period  Social and Religious status)-

सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था (Sultanate Period Social and Religious status)

सल्तनत कालीन सामाजिक अवस्था

  • इस काल में समाज में मुख्यतः दो वर्ग थे-मुसलमान और हिन्दू 

मुसलमान आगे दो मुख्य वर्गों में विभाजित थे

  1. तुर्क-अफगान, अरबी और ईरानी जाति के और
  2. भारतीय मुसलमान जो पहले हिन्दू थे.

भारतीय मुसलमानों से सौतेला व्यवहार किया जाता था. मुसलमान एक अन्य दृष्टिकोण से दो वर्गों-अहल-ए-सैयफ (सैनिक वर्ग तथा अहल-ए-कलम (पढ़े-लिखे लोग) में विभक्त थे.

  • मुसलमान नैतिक पतन की ओर बढ़ रहे थे.
  • इसका प्रमुख कारण यह था कि उनके पास हिन्दू राजा-महाराजाओं के राजकोषों और लूट का बहुत-सा धन एकत्र था.
  • इसलिए बिना परिश्रम के कमाए धन को उन्होंने सुरासुन्दरी में पानी की तरह बहाया.
  • कई सुल्तान (कैकुबाद, कुतुबुद्दीन मुबारक शाह आदि) स्वयं ही गिरे हुए चरित्र के थे.
  • ‘दास प्रथा’ का प्रचलन भी था.
  • किन्तु उस समय दास प्रथा बुरी नहीं थी. यह एक सामाजिक संस्था बन गई थी.

चार प्रकार के दास थे-

  1. क्रीत (खरीदे हुए),
  2. लब्ध (दान अथवा भेंट स्वरूप प्राप्त)
  3. युद्ध में प्राप्त दास 
  4. आत्म विक्रेता दास
  • यदि कोई दास अपने स्वामी की बड़ी सेवा करता अथवा अपने स्वामी के प्राणों की रक्षा करता था तो उसका स्वामी उसे स्वतन्त्र कर देता था.
  • दासों से अच्छा व्यवहार किया जाता था.
  • उन्हें अपनी योग्यतानुसार आगे बढ़ने के अवसर दिए जाते थे.
  • कुतुबुद्दीन ऐबक, इल्तुतमिश तथा बलबन भी दास थे तथा अपनी योग्यता के बल पर वे सुल्तान पद तक पहुंचे.
  • राजसी ठाठ-बाट के प्रदर्शन में मुसलमान शासक सबसे आगे थे.

सल्तनत कालीन स्त्रियोंकी अवस्था (सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था)

  • हिन्दुओं के घरों में स्त्रियों को गृह-स्वामिनी माना जाता था.
  • कई स्त्रियां बड़ी विदुषी थीं.
  • स्त्रियाँ नृत्य, संगीत, चित्रकला आदि की शिक्षा प्राप्त करती थीं.
  • फिर भी स्त्रियों की अवस्था ठीक नहीं थी.
  • बहु-विवाह प्रथा प्रचलित थी तथा विवाह की पवित्रता कम हो गई थी.
  • सुल्तान कैकुबाद और  मुबारक शाह के समय नारियों का महत्व और सम्मान और भी कम हो गया.
  • पर्दे की प्रथा का भी प्रचलन था.
  • एक मुस्लिम विधवा दूसरा विवाह कर सकती थी, किन्तु हिन्दू स्त्री ऐसा नहीं कर सकती थी.
  • सती–प्रथा तथा जौहर की प्रथा भी प्रचलित थी.
  • सती होने से पूर्व सुल्तान की अनुमति लेनी अनिवार्य थी.
  • हिन्दू स्त्रियों की दशा इतनी खराब हो गई थी कि (बरनी के अनुसार) हिन्दू स्त्रियों को मुसलमानों के घरों में काम-काज करने के लिए मजबूरन जाना पड़ता था.
  • सरकार हिन्दुओं को मुसलमान बनाने हेतु कई सुविधाएँ पेश करती थी.
  • सुल्तान खुसरो के समय हिन्दुओं की दशा में थोड़ा सुधार हुआ.
  • फिरोज तुगलक ने ब्राह्मणों पर भी जजिया लगाया तथा सिकन्दर लोदी ने हिन्दुओं को दण्डित करना शुरू किया.
  • आर्थिक संकट न होने पर भी हिन्दुओं की दशा दासों जैसी हो गई .
  • हिन्दू लोग वर्ण-व्यवस्था का कठोरता से पालन करते थे. चरित्र-सम्बन्धी अपराधों के लिए कठोर दण्ड दिए जाते थे.
  • राजकुमार मसऊद की माता को भी व्यभिचार के अपराध में पत्थर मार-मार कर मार दिया गया.
  • लोगों को धन इकट्ठा करने में बड़ी रुचि थी .
  • गधे की सवारी घृणास्पद समझी जाती थी.
  • लोग तन्त्र-मन्त्र तथा चमत्कार आदि में विश्वास रखते थे.
  • कन्या के जन्म को अशुभ माना जाता था.
  • कवि खुसरो ने अपनी पुत्री के जन्म पर दुःख व्यक्त किया.

लोगों के आचार और व्यवहार (सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था)

  • लोग माँसाहारी भी थे व शाकाहारी भी.
  • उच्च वर्गों में मदिरा और अफीम का उपयोग बढ़ गया था.
  • जन साधारण ज्वार व बाजरा खाते थे.
  • दूध, घी, मक्खन, शक्कर आदि का प्रयोग भी किया जाता था.
  • हिन्दू और मुसलमान दोनों ही अतिथि सत्कार के लिए प्रसिद्ध थे.
  • सब लोग विभिन्न धातुओं के आभूषण पहनते थे.
  • हिन्दू लोग रक्षा-बन्धन, होली, दशहरा, वसन्तोत्सव इत्यादि मानते थे .
  • परन्तु मुस्लिम शासकों ने उन पर्वो पर कई प्रकार के प्रतिबन्ध लगा दिए थे.
  • लोग धूत-क्रीड़ा, आखेट, मल्ल-युः, पशु-युद, संगीत, कला, प्रदर्शनी, नाटक इत्यादि से अपना मनोरंजन करते थे.
  • दक्षिण भारत के लोगों के आचार और व्यवहार उत्तर भारत के लोगों से कुछ भिन्न थे.
  • आत्म-बलिदान और सती–प्रथा भी, प्रचलित थी.
  • ब्राह्मणों का आदर किया जाता था.
  • विद्या प्राप्ति हेतु बहुत परिश्रम किया जाता था.
  • नैयर स्त्रियों में बहु-पति प्रथा प्रचलित थी.
  • मलाबार में दण्ड-विधान बहुत कठोर था.
  • इब्नबतूता के अनुसार कभी-कभी तो नारियल की चोरी के लिए भी प्राण दण्ड दिया जाता था.

सल्तनत कालीन धार्मिक अवस्था

  • उस समय भारत में मुख्यतः हिन्दू और मुसलमान धर्मों की प्रमुखता थी.
  • सल्तनत के सुल्तान तथा भारत में बसे मुसलमान अधिकतर कट्टर सुन्नी थे.
  • उन्होंने हिन्दुओं और शिया, करमानी, मैहदवी आदि मुसलमान सम्प्रदायों के प्रति दमनात्मक नीति अपनाई.
  • सूफी सन्तों को भी कई प्रकार के कष्ट सहने पड़े.
  • हिन्दुओं को मुसलमान बनाने के भरसक प्रयत्न किए गए.
  • कई हिन्दुओं ने इस्लाम ग्रहण किया.
  • किन्तु ऐसे लोग बहुत कम थे जिन्होंने इस्लाम के सिद्धान्तों के प्रभावाधीन इसे ग्रहण किया हो.
  • हिन्दू तथा मुसलमान एक ही राज्य में रहते हुए एक-दूसरे से बिल्कुल अलग रहे.
  • हिन्दुओं को धार्मिक और राजनीतिक कारणों से मुसलमानों के असंख्य अत्याचार सहने पड़े.
  • हिन्दुओं पर अनेक प्रतिबन्ध लगाए गए थे.
  • मुसलमानों के चरित्र व शक्ति का भी पतन होने लगा था.
  • मुसलमान परिश्रम से दूर भागने लगे थे और ऐश्वर्यशाली जीवन बिताने लगे थे.
  • मुगल काल से पूर्व हिन्दू जाति ने रामानन्द, चैतन्य महाप्रभु, गुरु नानक आदि भक्तों को पैदा किया.
  • मुसलमानों के बीच सूफियों ने सुन्नियों की श्रेष्ठता को चुनौती दी.
  • सूफियों का कहना था कि उलेमा ने कुरान शरीफ की गलत व्याख्या की है.
  • उनका विचार था कि सतयुग आने वाला है.
  • सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था

सल्तनत कालीन जैन तथा बौद्ध धर्म,शैव वैष्णव आदि सम्प्रदाय

  • जैन तथा बौद्ध मत भी अस्तित्व में थे, किन्तु इनका प्रभाव नाममात्र ही रह गया था.
  • जैन धर्म केवल भारत के पश्चिमोत्तर तथा राजस्थान में ही सीमित हो गया था.
  • बौद्ध धर्म में महायान सम्प्रदाय प्रगति पर था.
  • बौद्धों का प्रभाव भारत के पश्चिमोत्तर और मध्य देश में अधिक था.
  • महायान बौद्ध विद्वानों का प्रभाव कम हो गया था.
  • हिन्दू धर्म में शैव, वैष्णव आदि सम्प्रदायों का प्रचलन था.
  • शैवों के अनेक सम्प्रदाय थे-पाशुपत, कापालिक, वीरशैव, शिव सिद्धान्त, लिंगायत आदि .
  • धीरे-धीरे यह मत समस्त भारत में फैल गया.
  • उन्होंने ‘वाम मार्ग’ का सिद्धान्त चलाया.
  • इन लोगों ने भक्ति पर जोर दिया तथा वैष्णव आचार्यों ने उनका समर्थन किया.

वैष्णवों के चार मुख्य सम्प्रदाय थे-

  1. श्री सम्प्रदाय,
  2. ब्रह्म सम्प्रदाय,
  3. रूद्र सम्प्रदाय तथा
  4. सनकादि सम्प्रदाय 
  • रामानुज, गुरुब्रह्मा, माधवाचार्य, विष्णु स्वामी, वल्लभाचार्य, निम्बार्क आचार्य आदि विभूतियों ने वैष्णव मत के इन सम्प्रदायों का प्रचार किया.

सल्तनत काल सामाजिक तथा धार्मिक अवस्था (Sultanate Period  Social and Religious status)

User Rating: Be the first one !

Check Also

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 (Quit India Movement, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (Indian National Movement)

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 (Quit India Movement, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन

भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 (Quit India Movement, 1942) भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (Indian National Movement) युद्ध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Insert math as
Block
Inline
Additional settings
Formula color
Text color
#333333
Type math using LaTeX
Preview
\({}\)
Nothing to preview
Insert