सल्तनत काल

सल्तनत काल Sultanate era
मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)
भाग एक–सल्तनत काल

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत- कुतुबुद्दीन ऐबक अपनी अकस्मात मृत्यु के कारण किसी उत्तराधिकारी का चुनाव नहीं कर पाया था. अतः लाहौर के तुर्क अधिकारियों ने आराम शाह को गद्दी पर बिठा दिया.   इस विषय में अभी तक विवाद है कि आराम शाह कुतुबुद्दीन ऐबकका पुत्र था, …

आराम शाह (1210-11 ई.) गुलाम वंश | दिल्ली सल्तनत | मध्यकालीन भारत Read More »

कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश या दास वंशकी स्थापना (1206-1990 ई.)दिल्ली सल्तनत

कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश | Qutubuddin Aibak in Hindi (1206-1290 ई.)दिल्ली सल्तनत

दिल्ली सल्तनत कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश या दास वंशकी स्थापना-1206 ई. से 1290 ई. तक ‘दिल्ली सल्तनत‘ पर शासन करने वाले तुर्क सरदारों को ‘गुलाम वंश‘ (दास वंश) का शासक माना जाता है. इस काल में कुत्वी (कुतुबुद्दीन ऐबक), शक्शी (इलतुतमिश) तथा बलबनी (बलबन) नामक राज्यवंशों ने शासन किया. इल्तुतमिश तथा बलबन ‘इल्बारी तुर्क‘ थे. …

कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश | Qutubuddin Aibak in Hindi (1206-1290 ई.)दिल्ली सल्तनत Read More »

शहाबुद्दीन मुहम्मद गोरी के भारत पर आक्रमण मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)

शहाबुद्दीन मुहम्मद गोरी के भारत पर आक्रमण मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)

शहाबुद्दीन मुहम्मद गोरी के भारत पर आक्रमण-शहाबुद्दीन मुहम्मद गोरी या मुईजुद्दीन–मुहम्मद-बिन-साम गोर के शासक गियासुद्दीन  गोरी का छोटा भाई था. 1173 ई. में उसे गज़नी की गद्दी पर बैठाया गया. यद्यपि वह गज़नी में स्वतंत्र शासक की हैसियत से 1206 ई. तक राज्य करता रहा लेकिन फिर भी उसने सिक्कों पर अपने भाई का नाम …

शहाबुद्दीन मुहम्मद गोरी के भारत पर आक्रमण मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA) Read More »

महमूद गजनवी के उत्तराधिकारी और गजनवी साम्राज्य का पतन

महमूद गजनवी के उत्तराधिकारी और गजनवी साम्राज्य का पतन

महमूद गजनवी के उत्तराधिकारी-1030 ई. में महमूद की मृत्यु के पश्चात् उसके दो पुत्रों-मसूद गज़नी तथा मुहम्मद गज़नी में सिंहासन के लिए संघर्ष हुआ. मसूद ने मुहम्मद गज़नी को अन्धा करवा कर कैद में डाल दिया. मसूद गज़नी ने अपने काल में कुछ सैनिक सफलताएं भी प्राप्त कीं, मगर 24 मार्च 1040 ई. को वह दण्डनकन नामक …

महमूद गजनवी के उत्तराधिकारी और गजनवी साम्राज्य का पतन Read More »

महमूद गजनी (गज़नवी) के आक्रमणों के प्रभाव-मध्यकालीन भारत

महमूद गजनी (गज़नवी) के आक्रमणों के प्रभाव-मध्यकालीन भारत

  महमूद गजनी (गज़नवी) के आक्रमणों के प्रभाव इस प्रकार है- – भारत में मुस्लिम राज्य की स्थापना के लिए मार्ग प्रशस्त हुआ. – महमूद गजनवी के आक्रमणों का आर्थिक प्रभाव भारतीय शहरों तथा मन्दिरों पर अच्छा नहीं पड़ा. यहाँ से लूटी धनराशि से उसने एक विशाल तथा स्थाई सेना रखी, जिसने उसके साम्राज्य की मध्य …

महमूद गजनी (गज़नवी) के आक्रमणों के प्रभाव-मध्यकालीन भारत Read More »

महमूद गजनी (गज़नवी) के सत्रह आक्रमण और उद्देश्य

महमूद गजनी (गज़नवी) के सत्रह आक्रमण और उद्देश्य-मध्यकालीन भारत

महमूद गजनी (गज़नवी) के सत्रह आक्रमण और उद्देश्य-प्रसिद्ध इतिहासकार हबीब, जाफर तथा लेनपूल आदि का मत है कि महमूद गजनी (गज़नवी) का भारत पर आक्रमण करने का उद्देश्य ‘धन प्राप्ति’ था.     वस्तुतः आजकल महमूद गजनी के आक्रमणों का सर्वाधिक महत्वपूर्ण उद्देश्य ‘धन प्राप्ति’ ही माना जाता है. कई विद्वानों ने इस विषय में विभिन्न …

महमूद गजनी (गज़नवी) के सत्रह आक्रमण और उद्देश्य-मध्यकालीन भारत Read More »

तुर्को का आगमन (Advent of Turks) मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)

तुर्को का आगमन (Advent of Turks) मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)

तुर्को का आगमन (Advent of Turks)-नवीं शताब्दी के अन्त में ट्रांस-ऑक्सियाना, खुरासान तथा ईरान के कुछ भागों पर सामानी शासकों का राज्य था, जो मूलतः ईरानी थे. इन्हें अपनी उत्तरी और पूर्वी सीमाओं पर निरन्तर तुर्की से संघर्ष करना पड़ता था. तुर्क अधिकतर प्रकृति की शक्तियों की पूजा करते थे अतः मुसलमानों की दृष्टि में …

तुर्को का आगमन (Advent of Turks) मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA) Read More »

अरबों की सिंध की विजय एक घटना मात्र है MEDIEVAL INDIA

अरबों की सिंध की विजय एक घटना मात्र है (MEDIEVAL INDIA)

अरबों की सिंध की विजय एक घटना मात्र है शक्तिशाली राजपूत राजाओं ने अरबों को सिन्ध से खदेड़ दिया (1) अरब में खिलाफत के लिए उमैय्यदों और अबासिदों में संघर्ष छिड़ गया तथा अबासिद नए खलीफा बने जिन्हें सिन्ध के प्रति अधिक रुचि नहीं थी. फलस्वरूप सिंध पर अरबों का नियन्त्रण ढीला पड़ गया.   …

अरबों की सिंध की विजय एक घटना मात्र है (MEDIEVAL INDIA) Read More »

अरबों की सिंध विजय और उसके प्रभाव-मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)

अरबों की सिंध विजय और उसके प्रभाव-मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)

अरबों की सिंध विजय और उसके प्रभाव–डा. स्टैनले लेनपूल के अनुसार “यह एक ऐसी विजय थी जिसका कोई परिणाम नहीं निकला.” डा. ए. एल. श्रीवास्तव का विचार है कि “यह समझना गलत है कि अरब विजय ने भारतवासियों को प्रभावित ही नहीं किया, उसने हमारे देश में इस्लाम का बीज बोया.’ अरबवासी ही सर्वप्रथम इस्लाम …

अरबों की सिंध विजय और उसके प्रभाव-मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA) Read More »

अरबों की विजय के कारण और उनकी शासन व्यवस्था

अरबों की विजय के कारण और उनकी शासन व्यवस्था (MEDIEVAL INDIA)

अरबों की विजय के कारण (1) अरब सैनिकों को नूतन अरब रणनीति का व्यवहारिक प्रशिक्षण प्राप्त था तथा अरबों के पास अच्छी नस्ल के सैनिक-घोड़े थे.     (2) मुहम्मद-बिन-कासिम का योग्य सैनिक नेतृत्व. (3) राजा दाहिर निरकुंश, अयोग्य, धर्मान्ध व अलोकप्रिय था. उसने अरबों को सिन्धु नदी के पार ही रोकने का प्रयत्न नहीं …

अरबों की विजय के कारण और उनकी शासन व्यवस्था (MEDIEVAL INDIA) Read More »